Syndicate Bank

banner

हमारे बारे में

 
image

सिंडिकेटबैंक की स्थापना भगवान श्री कृष्ण की निवास भूमि तटीय कर्नाटक के उडुपि में मात्र 8000/- रुपए की पूंजी से तीन दूरदर्शियों-श्री उपेन्द्र अनंत पै, श्री वामन कुड्वा और डॉ टी.एम.ए. पै द्वारा 20 अक्तूबर 1925 को की गयी थी, जो क्रमश: व्यवसायी, इंजीनियर और डॉक्टर थे तथा सामाजिक कल्याण के प्रति उनमे अडिग आस्था थी । उनका मुख्य उद्देश्य समाज से छोटी बचतों का संग्रह करके स्थानीय बुनकरों को वित्तीय सहायता पहुंचाना था क्योंकि हथकरघा उद्योग में संकट के कारण बुनकरों की स्थिति बदतर हो गई थी। बैंक, सन् 1928 में शुरु की गई पिग्मी जमा योजना के अधीन अपने अभिकर्ताओं के माध्यम से जमाकर्ताओं के घर-घर पहुँच कर प्रतिदिन दो आने की मामूली रकम एकत्रित करता था । यह योजना आज बैंक की ब्रांड ईक्विटी बन गई है और बैंक इस योजना के अधीन प्रति दिन रु.2 करोड़ की राशि संग्रह कर रहा है । 

सिंडिकेटबैंक की प्रगति यात्रा भारत में प्रगामी बैंकिंग के विभिन्न चरणों का पर्याय रहा है । अपनी मार्गदर्शन की भूमिका तथा दूरदर्शी नीतियों के बलबूते 80 वर्षों की लम्बी अवधि के दौरान बैंक ने अपने लिए दो या तीन पीढ़ी के ग्राहकों से युक्त सुदृढ़ ग्राहक आधार का निर्माण किया है । ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी सुदृढ़ पकड़ और जमीनी हकीकत की व्यापक समझ होने के कारण बैंक के पास भविष्य के भारत के बारे में एक दृष्टि है। बैंक और जनता, दोनों के परस्पर अवलंबन द्वारा प्रगति प्राप्त करने के उसके तत्व-ज्ञान से बैंक को भारी लाभ हुआ है । बैंक आम आदमी के मामले में वैयक्तिक स्तर पर और ग्रामीण/अर्ध शहरी केन्द्रों के संदर्भ में क्षेत्रीय स्तर पर देश भर में उत्प्रेरक के रूप में कार्य कर रहा है

बैंक, सूचना प्रौद्योगिकी, ज्ञान और प्रतियोगिता के क्षेत्र में 21वीं सदी की चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना करने के लिए सन्नद्ध है। एक व्यापक सू.प्रौ. योजना तैयार की गयी है और अपनी सभी क्रियाकलापों के क्षेत्रों में ग्राहक हर्षानुभूति को आगे बढ़ाने हेतु विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यम से बैंक कर्मचारियों के कौशल और ज्ञान को बढ़ाया जा रहा है । बैंक ने, केन्द्रीकृत बैंकिंग समाधान नामक एक महत्वाकांक्षी प्रौद्योगिकी योजना का शुभारंभ किया है, जिसके द्वारा हमारी प्रमुख 500 शाखाएं चार वर्षों की अवधि के दौरान अपने ए.टी.एम. सहित देश व्यापी नेटवर्क से जुड़ जाएंगी । हमारा बैंक, सीबीएस के शुभारंभ में सार्वजनिक क्षेत्र बैंकों में अग्रणी है। हमारा बैंक अपनी शाखाओं में सीबीएस का कार्यान्वयन कर चुका है। यथा, यह बैंक शतप्रतिशत सीबीएस समर्थ है।

 

85 वर्षों के यात्रा की स्‍मरणीय उपलब्धि

 
 

डिस्क्लेमर: इस वेबसाइट की सामग्री पूरी तरह से सूचनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए है। यह किसी भी प्रकार के कारोबार की सिफ़ारिश नहीं करता है।

2015 सिंडिकेट बैंक. सर्वाधिकार सुरक्षित     यह वेबसाइट सबसे अच्छे रूप से 1280 x 800 में देखा जाता है