Syndicate Bank
banner
 

म्यूचुअल फंड सेवाएँ

 
banner
 

बैंक ने, वित्तीय सुपरमार्केट के रूप में कार्य करने के लिए, निम्नलिखित म्यूचुअल फंड आस्ति प्रबंधन कंपनी(एएमसी) के साथ गठजोड़ किया है:

  1. 1. बिरला सन लाइफ एसेट मैनेजमेंट कंपनी लि.
  2. 2. डीएसपी ब्लैक रॉक इनवेस्टमेंट मैंनेजर्स प्रा. लि.
  3. 3. फ्रेंकलिन टेम्पलेशन मैनेजमेंट प्रा. लि.
  4. 4. एचडीएफ़सी एसेट मैनेजमेंट कंपनी लि.
  5. 5. आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एसेट मैनेजमेंट कंपनी लि.
  6. 6. आईडीबीआई एसेट मैनेजमेंट कंपनी लि.
  7. 7. रिलायंस कैपिटल एसेट मैनेजमेंट लि.
  8. 8. एसबीआई फंड मैनेजमेंट प्राइवेट लि.
  9. 9. यूटीआई एसेट मैनेजमेंट कंपनी प्रा. लि.

विशेषताएँ एवं लाभ

 
banner
 

म्यूचुअल फंड सेवाएँ एक ऐसा न्यास है जो समान वित्तीय लक्ष्य रखनेवाले निवेशकों की बचत को एकत्रित करता है। इस तरह से की गई बचत को विपण्णन के विभिन्न साधन जैसे शेयर, डिबेंचर और अन्य प्रतिभूतियों में निवेश किया जाता है। इन निवेशों से अर्जित आय तथा पूंजी से प्राप्त मूल्यवृद्धि को उनके द्वारा स्वामित्व वाली इकाइयों की संख्या के अनुपात में अपने यूनिट धारकों के साथ बांटा जाता है। इस प्रकार म्यूचुअल फ़ंड आम आदमी के लिए सबसे उचित निवेश है क्योंकि यह एक अपेक्षाकृत कम लागत पर प्रतिभूतियों की विविध, व्यावसायिक रूप से प्रबंधित निवेश करने के लिए अवसर प्रदान करता है।

 

लाभ

पोर्टफोलियो विविधिकरण
एक मुहावरा है, ‘अपना सब कुछ दांव पर मत लगाना’, लिखतों या साधनों की संख्या में विविधिकरण एकल होल्डिंग की जोखिम को कम करने में सहायक होता है।

व्यावसायिक निवेश प्रबंधन
आस्ति प्रबंधन कंपनियों (एएमसी) का प्रबंधन व्यावसायिक निधि प्रबंधकों द्वारा किया जाता है जो विशेष निवेश की गतिविधियों को कार्यान्यवित करते हैं।

तरलता
ओपन-एंडेड योजनाएँ पुनर्खरीदी सुविधा और चालू बिक्री के माध्यम से तरलता प्रदान करते हैं। इस प्रकार, निवेशक को अपने निवेशों के लिए क्रेता को खोजने की आवश्यकता नहीं होती है।

कम लेनदेन लागत
इसके आकार को देखते हुए, हम यह जानते हैं कि, हम खुदरा दरों की तुलना में बेहतर दर प्राप्त कर सकते हैं। इसप्रकार, एएमसी सौदेबाजी के अधिक शक्ति का लाभ उठाते हैं तथा अपने निवेशों की खरीद व बिक्री के बेहतर सौदेबाजी करने की स्थिति में है।

निवेश उत्पादों की व्यापक विविधता
चूंकि निवेश का लक्ष्य अलग है, इसीलिए ‘एक आकार सबके लिए सही है’ का दार्शनिक तत्व यहाँ सही नहीं है। अतः निवेशक, निवेश लक्ष्य और समय सीमा के आधार पर म्यूचुअल फंड योजनाओं के गुच्छे अर्थात इक्विटी, ऋण, मुद्रा बाजार, ईएलएसएस आदि, से अपने निवेश को चुन सकते हैं।

लचिलापन
म्यूचुअल फंड, निवेशक के निवेश के उद्देश्य के लिए निवेशक द्वारा एक योजना के चयन हेतु लचिलापन प्रदान करते हैं।

पारदर्शिता
तथ्य पत्रक, प्रस्ताव के दस्तावेजों, वार्षिक रिपोर्ट और प्रचार सामग्री के माध्यम से उपलब्ध सूचना, निवेशक को अपने निवेश के बारे में जानकारी प्रदान करने में सहायक होता है।

उचित नियंत्रण
म्यूचुअल फंड की गतिविधियों का सेबी द्वारा निगरानी के माध्यम से, भारत में म्यूचुअल फंड नियंत्रित होता है।

कर से लाभ
इक्विटी फंड हेतु, म्यूचुअल फंड की इक्विटी योजनाओं से प्राप्त लाभांश (अर्थात 65% से अधिक की इक्विटी जोखिम की योजनाएँ) पूर्ण रूप से कर से मुक्त हैं। ना तो म्यूचुअल फंड को लाभांश वितरण शूल्क देना है और ना ही निवेशक को आयकर अदा करना पड़ता है।

 

म्यूचुअल फंड के प्रकार

संरचना से

    निरंतर स्वरूप/असीमित अवधि वाली -
       इन योजनाओं की निर्धारित परिपक्वता नहीं होती है। म्यूचुअल फंड यह सुनिश्चित करता है कि सीमित अवधि निधि की यूनिट हेतु बिकी और पुनर्खरीदी की घोषणा से तरलता बनाए रखे।

    सीमित अवधि वाली –
    इन योजनाओं की निर्धारित परिपक्वता होती है। निवेशक का पैसा एक अवधि के लिए अवरोधित होता है। कभी कभी, निवेशक को, नियतकालिक योजनाएँ पुनर्खरीदी का विकल्प देता है, यह या तो किसी विशेष अवधि या विशेष अवधि उपरांत के लिए होता है। इन योजनाओं को तरलता, शेयर बाजार में लिस्टिंग के माध्यम से प्रदान किया जाता है।

निवेश लक्ष्य से

    इक्विटी योजनाएँ-
    इक्विटी योजनाएँ मुख्यतः शेयरों में निवेश करते हैं। ये लक्ष्य पर आधारित होते हैं, निवेश विकास स्टॉक में किया जा सकता है जहां आय की वृद्धि की संभावना अधिक है या वैल्यू शेयरों में जहां फंड मैनेजर की यही सोच है कि बाजार कि वर्तमान वैल्यूएशन आंतरिक मूल्यों को प्रतिबिंबित नहीं करती है। इक्विटी शेयरों के विभिन्न प्रकार निम्नलिखित हैं:

      विशाखीकृत निधि:
      ये निधियाँ आपको क्षेत्रों और बाजार पूंजीकरण में फैली कंपनियों में निवेश के विविधिकरण से होने वाले लाभ को उपलब्ध कराता है। ये अधिकतर उन के लिए है जो बाजार में जोखिम की तलाश करते हैं तथा किसी एक क्षेत्र तक सीमित नहीं रहना चाहते।

      सेक्टर/क्षेत्र निधियाँ
      ये निधियाँ मुख्यतः कंपनियों में किसी विशिष्ट व्यापारिक सेक्टर या उद्योग की इक्विटी शेयरों में निवेश करते हैं। ये निधियाँ, जबकि अधिक प्रतिलाभ दे सकती है, पर विशाखीकृत निधियों की तुलना में अधिक जोखिम से भरे है। निवेशकों को चाहिए कि वे इन क्षेत्रों/उद्योगों के निष्पादन पर नजर रखे और सही समय पर इससे बाहर निकाल आना चाहिए।

      इंडेक्स निधियाँ
      ये निधियाँ सीएनएक्स निफ्टी सूचकांक और एस ऐंड पी बीएसई सेंसेक्स कि तरह लोकप्रिय शेयर बाजार के सूचकांक के रूप में एक ही पैटर्न में निवेश करते हैं। इंडेक्स फंड का मूल्य बेंचमार्क के अनुपात में भिन्न होता/बदलता है। ऐसी योजनाओं के एनएवी के उतार-चढ़ाव इंडेक्स के उतार-चढ़ाव के अनुसार होते हैं। यह ‘ट्रैकिंग एरर’ जैसे तत्व के करण बेंचमार्क की तुलना में बदलेगा।

      ईएलएसएस (इक्विटी लिंक्ड बचत योजना)
      ईक्विटी लिक्ड बचत योजना एक ओपन-एंडेड ईक्विटी विकास योजना है जिसे म्यूचुअल फंड द्वारा वर्तमान ईएलएसएस दिशा-निदेश के साथ दिया जाता है। इस प्रकार कि योजना के तहत दिये गए निवेशों का 3 वर्षों तक लॉक-इन अवधि है तथा वित्त अधिनियम 2005 के अनुसार `1,00,000/- तक आय में कटौती के लाभ की अनुमति है। ईएलएसएस कर बचत और पूंजी का लाभ प्रदान करता है। आप अब ईएलएसएस में धारा 80 सी के तहत `1,00,000/- की पूर्ण राशि का निवेश कर सकते हैं।

      ईएलएसएस के लाभ

      निवेश करें: ईक्विटी और ईक्विटी से संबन्धित सुरक्षा में।
      धारा 80सी: `1.00.000/- तक के निवेश पर कर लाभ
      लॉक-इन अवधि: 3 वर्ष (सभी करबचत लिखतों में न्यूनतम)
      रिटर्न: उच्च क्षमता
      लाभांश: कर से मुक्त
      कर देयता: चूंकि मोचन या प्रतिदान 3 वर्ष बाद होता है।
      एसआईपी: एसआईपी के माध्यम से कम मात्रा में निवेश करने का

    ऋण या आय योजनाएँ
    ऐसी निधि ब्याज देने वाली प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं, मुख्यतः सरकारी प्रतिभूतियों और कॉरपोरेट बॉन्ड। यह निधि अपने निवेश और व्यापार प्रतिभूतियों पर लाभ पर ब्याज आय से अपने निवेशकों के लिए प्रतिलाभ अर्जित करता है। जहां तक जोखिम का सवाल है, इस तरह के निधि में जोखिम कम है।

    मुद्रा बाजार योजनाएँ
    ये योजनाएँ, सरकार, कॉरपोरेट या बैंकों द्वारा जारी अल्पकालिक ऋण लिखतों में निवेश करते हैं। ये विशेष तौर पर सीपी और सीडी जैसी लधु अवधि के कागजात में निवेश हैं।

संकर योजनाएँ

    संतुलित योजनाएँ
    संतुलित योजनाएँ इक्विटी और ऋण का मिश्रित निवेश है। ऋण निवेश बुनियादी ब्याज आय सुनिश्चित करता है, जिसे फंड मैनेजर इक्विटी में किए निवेश से प्राप्त पूंजी लाभ से जोड़ना चाहता है। हालांकि हानि कि, बुनियादी ब्याज आय और पूंजी में क्षतिपूर्ति की जा सकती है।

    मासिक आय योजना
    एमआईपी पारंपरिक निवेशकों के लिए उपयुक्त है जो ऋण के जोखिम के साथ इक्विटी के कम जोखिम की प्रवाह नहीं करते हैं। ये फंड रिटर्न में निरंतरता उपलब्ध कराने के लिए अपने पोर्टफोलियो के बड़े हिस्से को ऋण बाजार लिखत के साथ इक्विटी के लिए एक छोटा हिस्सा निवेश करते हैं। इस प्रकार एमआईपी पारंपरिक निवेशकों के लिए सही है जो पूंजी की सुरक्षा के साथ पूंजी अधिमूल्यन पर नजर रखे है चूंकि एमआईपी का इक्विटी में जोखिम है। यद्द्पि, मासिक आय सुनिश्चित नहीं है।

व्यवस्थित योजना

    सुनियोजित निवेश योजना (एसआईपी)
    एसआईपी एक दीर्घकालिक अवधि के लिए एक अनुशासित तरीके से धन जमा करने के लिए एक सुविधाजनक तरीका है। यह कम किस्तों में नियमित रूप से निश्चित राशि का निवेश करने और इस तरह लंबी समय अवधि पर अधिक धन का निर्माण करने में मदद करता है।

    सुनियोजित निकासी योजना (एसडबल्यूपी)
    इस योजना में, निवेशक आवधिक समय में नियमित धन को आहरित करता है। एसडबल्यूपी, एसआईपी का दर्पण प्रतिबिंब है। जिस तरह निवेशक, जब बाजार अपनी चरम पर होती है, तो अपने सभी यूनिट्स को खरीदना नहीं चाहते, उसी तरह वे बाजार के गर्त के समय भी अपने यूनिट्स का मोचन भी नहीं करना चाहते। इसीलिए निवेशक, यूनिट्स के बाजार मूल्य की स्थिरता के समय, पुनः खरीदी के सुरक्षित मार्ग अपनाने का विकल्प ले सकते हैं।

    सुनियोजित अंतरण योजना (एसटीपी)
    यह एसडबल्यूपी एवं एसआईपी का एक संयोजन है। यह एक ही म्यूचुअल फंड का वर्तमान योजना से एसडबल्यूपी और एक दूसरी योजना मे एसआईपी (स्वीप इन) है।

    एसआईपी से लाभ

      एसआईपी से लाभ
      एसआईपी स्वयं को अपने जीवन के अधिक से अधिक व्यय को वहन या पूरा करने हेतु कम उम्र में ही निवेश करने में मददगार होता है। कम राशि को नियमित रुप से बचत करने से पैसा चक्रवर्धिता की उत्तम शक्ति से धन संचयन पर अधिक प्रभाव पड़ता है।

      रुपया लागत औसतन
      एसआईपी अस्थिर बाजार में निवेश के प्रभाव को कम करता है। यह आपको, लंबे समय में बेहतर रिटर्न को अर्जित करने में आपके औसत लागत में मदद करता है। चूंकि, जब एनएवी में गिराव आता है तो अधिक और बढ़ने पर कम यूनिट्स मिलते हैं, यह समय के साथ लागत को औसत करता है। इस प्रकार, आपके निवेश की औसत लागत कम हो जाती है।

      सुविधा और नियमितता
      एसआईपी आपको सिंडिकेट बैंक के ईलेक्ट्रोनिक क्लियरेंस सेवा या ऑटो नामे या स्थायी आदेश के माध्यम से अदा करने की सुविधा प्रदान करता है। आप यकम और म्यूचुअल फंड योजना का चयन कर सकते हैं। आपके द्वारा निर्दिष्ट तारीख को एक निश्चित राशि स्वचालित रूप से आपके खाते से डेबिट हो जाएगा

      निवेश के प्रति अनुशासित दृष्टिकोण
      चूंकि, आप नियमित रूप से निवेश करते हैं, आप अपने बचत के मामले में अनुशासित हो जाते हैं। अनुशासित निवेश एक लंबी समय सीमा पर अच्छा रिटर्न कमाने के लिए महत्वपूर्ण है।

म्यूचुअल फंड शब्दावली

  1. • आस्ति प्रबंधन कंपनी (एएमसी) का अर्थ है म्यूचुअल फंड कंपनी।

  2. • प्राधिकृत रजिस्ट्रार – किसी भी रजिस्ट्रार या शेयर अंतरण एजेंट जिनके साथ शाखा नेटवर्क के माध्यम से रखे लेन-देन के आदेशों के निष्पादन/पुष्टि हेतु जिसके साथ एएमसी करने की व्यवस्था का प्रस्ताव है।

  3. • प्रस्ताव दस्तावेज़/योजना सूचना दस्तावेज़ – एएमसी द्वारा जारी दस्तावेज़, जिसे समय समय पर संशोधित किया जाता है (परिशिष्ट या अन्यथा को शामिल करते हुए), सदस्यता के लिए संबन्धित योजनाओं/योजनाओं की इकाइयों को प्रस्तुत कर्ण और विवरणी की अतिरिक्त सूचना जो एएमएफ़आई के वेबसाइट पर उपलब्ध है और जिसमें एएमसी भी शामिल है।

  4. • प्रमुख सूचना ज्ञापन या किम: फंड की योजनाओं की योजना सूचना दस्तावेज़ का संक्षिप्त संस्कारण, जिसमें योजना (ओं) के आवेदन फॉर्म और प्रमुख सूचना है।

  5. • एनएवी – सकल आस्ति मूली के प्रति यूनिट की संबन्धित योजनाएँ और उस में निहित योजनाएँ और विकल्प या प्रस्ताव दस्तावेज़/योजना सूचना दस्तावेज़ के अनुसार प्रकाशित और गणना की गई, या समय समय पर विनियमन द्वारा निर्धारित के अनुसार।

  6. • खरीदी: ग्राहक द्वारा वितरक के माध्यम से फंड की किसी भी योजना की इकाइयों के लिए सदस्यता का सकते हैं।

  7. • मोचन/प्रतिदेय – ग्राहक द्वारा फंड की किसी भी योजना की यूनिट का मोचन।

  8. • स्विच – ग्राहक को सुविधा दी जाती है कि वह वर्तमान में निवेश किए किसी योजना की एएमसी से दूसरे को बदल सकता है अर्थात म्यूचुअल फ़ंड की (उसमें निहित योजना/विकल्प भी शामिल है) किसी योजना की यूनिट का म्यूचुअल फंड (उसमें निहित योजना/विकल्प भी शामिल है) किसी अन्य योजना की यूनिट की बिक्री से मोचन, यह रुद्ध अवधि, कोई हो तो, के अधीन है।

  9. • यूनिट – निवेशक द्वारा यूनिट प्रमाणपत्र/खाता विवरणी का सबूत ही किसी योजना में निहित प्रति यूनिट के प्रतिनिधित्व उस योजना की आस्तियों में एक अविभाजित शेयर में रूचि को दर्शाता है।

  10. • लाभांश विकल्प –ग्राहक के लिए उपलब्ध विकल्प उनके संबन्धित प्रस्ताव दस्तावेजों में परिभाषित के रूप में एएमसी की योजनाओं में उपलब्ध लाभांश भुगतान या लाभांश पुनर्निवेश सुविधा में से, प्रस्ताव दस्तावेज़/योजना सूचना दस्तावेज़ और अनुशेष से चुनना होगा।

  11. • लाभांश भुगतान – ग्राहक द्वारा लाभांश के लिए चयनित विकल्प, स्रोत पर की कटौती के अधीन भुगतान, यदि कोई हो, जिसे संबन्धित प्रस्ताव दस्तावेज़/योजना सूचना दस्तावेज़ और अनुशेष में बताए, अनुसार किया जाना है।

  12. • लाभांश पुनर्निवेश – ग्राहक द्वारा लाभांश को पुनर्निवेश के लिए चयनित विकल्प, स्रोत पर की कटौती के अधीन भुगतान, यदि कोई हो, जिसे संबन्धित प्रस्ताव दस्तावेज़/योजना सूचना दस्तावेज़ और अनुशेष में बताए, अनुसार किया जाना है।

  13. • तारीख रिकॉर्ड करें – उस दिनांक को जिस पर फंड में यूनिट धारकों के लाभकारी स्वामित्व एएमसी द्वारा एनआईटी धारकों के रजिस्टर में दर्ज किया गया है।

डिस्क्लेमर

म्यूचुअल फंड निवेश बाजार के जोखिम के अधीन है। कृपया निवश करने से पहले प्रस्ताव दस्तावेज़/योजना सूचना दस्तावेज़ को सावधानी से पढ़ें।

 

Syndicate Bank

डिस्क्लेमर: इस वेबसाइट की सामग्री पूरी तरह से सूचनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए है। यह किसी भी प्रकार के कारोबार की सिफ़ारिश नहीं करता है।

2015 सिंडिकेट बैंक. सर्वाधिकार सुरक्षित     यह वेबसाइट सबसे अच्छे रूप से 1280 x 800 में देखा जाता है